10 natural ways to Increase Immunity Power

want to know about 10 natural ways to Increase Immunity Power in Hindi Language then learn whole article

क्या होती है रोग प्रतिरोधक क्षमता

(What is Immunity Power)?

मनुष्य के शरीर में रोगो से लड़ने के लिए एक रोग प्रतिरोधक तंत्र काम करता है जो शरीर को सभी प्रकार के बैक्टीरिया, वायरस या अन्य परजीवियों से होने वाली बिमारियों से बचाता है!

मनुष्य के शरीर में बिमारियों से लड़ने वाली इसी क्षमता को मनुष्य की रोग प्रतिरोधक क्षमता कहते हैं!

रोग प्रतिरोधक क्षमता किसी व्यक्ति में कम होती है तो किसी व्यक्ति में ज्यादा!

कुछ लोग बहुत जल्दी बीमार पड़ जाते है तो कुछ लोग दुसरो की तुलना में कम बीमार पड़ते है! ये दर्शाता है की सभी मनुष्यो की रोग प्रतिरोधक क्षमता अलग अलग होती है!

White Blood Cells (शरीर के सिपाही)

मनुष्य के शरीर में मौजूद रक्त (Blood) में सफ़ेद कोशिकाएं (White Blood Cells) होती हैं जो शरीर में मौजूद हानिकारक बैक्टीरिया, वायरस आदि से लड़ने का काम करती है!

इसी कारण से इन सफ़ेद रक्त कोशिकाओं (white blood cells) को मनुष्य के शरीर के सिपाही भी कहा जाता है!

White Blood cells count in Human Body (Approximate range)

AgeBlood Counts (Per microliter)
नवजात शिशु9000-30000
2 साल से कम उम्र के बच्चे6200-17000
2 साल से अधिक उम्र के लोगो में5000-10000

इसके अलावा मनुष्य के खून में एंटीबाडीज (Antibodies) का भी निर्माण होता है जो इन बैक्टीरिया, वायरस के खिलाफ लड़ने का काम करती है ये एंटीबाडीज भी हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता का ही हिस्सा है!

You may be interested in :- Aarogya Mobile Setu App ki Jaankari Hindi me

रोग प्रतिरोधन क्षमता को बढ़ाने के 10 प्राकृतिक तरीके

know about 10 natural ways to Increase Immunity Power in Hindi Language

1) पर्याप्त नींद लें

मनुष्य के लिए अच्छी नींद लेना उतना ही जरुरी है जितना की रोज भोजन करना!

मात्र अच्छी नींद लेने से शरीर से जुडी कई बीमारियां स्वयं ही समाप्त हो जाती है!

संतुलित नींद लेने से हमारे शरीर में उन कोशिकाओं का निर्माण होता है जो हमारे शरीर में बाहरी बैक्टीरिया, वायरस आदि से लड़ने में मददगार होती है!

संतुलित नींद विभिन्न आयु वर्ग के लोगो के लिए भिन्न -भिन्न होती है!

आयु वर्गनींद का समय
0-3 महीने14 से 17 घंटे
4-11 महीने12 से 15 घंटे
1-2 साल11 से 14 घंटे
3-5 साल10 से 13 घंटे
6-13 साल9 से 11 घंटे
14-17 साल8 से 10 घंटे
18-25 साल7 से 9 घंटे
26-64 साल7 से 9 घंटे
65 साल से ज्यादा आयु वर्ग7 से 8 घंटे
approximate sleep time for different age group people

2) ग्रीन टी (Green Tea) का सेवन करें

ग्रीन टी (Green Tea) शरीर में इम्युनिटी (Immunity Power) या रोग प्रतिराधक क्षमता को बढ़ाने का एक बहुत ही अच्छा और आसान तरीका है! ग्रीन टी शरीर में इन्फ्लुएंजा बढ़ाने वाले कीटाणुओं का खात्मा करती है!

ग्रीन टी (Green Tea) में मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट कैंसर जैसी बीमारियों को भी शरीर से दूर रखने में मदद करते हैं!

जिन लोगो को दिल से जुडी बीमारियां हैं उन लोगो को ग्रीन टी पीना काफी फायदेमंद होता है!

ग्रीन टी मेटाबोलिज्म (metabolism) को भी बढ़ता है जिससे आपका हाज़मा दुरुस्त रहता है!

3) शराब या किसी भी अन्य प्रकार के नशें से दूर रहें

शराब, धूम्रपान या फिर किसी अन्य प्रकार का नशा मनुष्य शरीर के लिए नुकसानदेह होता है!

ज्यादा शराब का सेवन करने से न ही सिर्फ आपका लिवर ख़राब होता है बल्कि आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी कम हो जाती है!

ज्यादा शराब पीने वाले लोगो को हार्ट-अटैक का खतरा भी बढ़ जाता है!

4)हमेशा खुश रहें और तनाव से दूर रहें

मानसिक तनाव आज के समय की उभरती हुई एक बहुत ही बड़ी समस्या है!

आज मनुष्य का जीवन इतना व्यस्त और तनावपूर्ण हो गया है की उसको anxiety, mental pressure, सिरदर्द, नींद न आना जैसी बीमारियों का सामना करना पड़ जाता है!

मानसिक तनाव का सीधा संबंध आपकी जीवन शैली से होता है!

इसलिए आपको अच्छी जीवन शैली अपनानी चाहिए जैसे की समय से सोना समय से जागना, रोज़ाना व्यायाम या फिर योगा करना, पौष्टिक आहार खाना आदि!

5) नियमित व्यायाम करें

विभिन्न स्टडीज से ये बात सिद्ध होती है की जो लोग प्रतिदिन व्यायाम करते हैं वो लोग कम बीमार पड़ते हैं!

स्वस्थ रहने के लिए करें योगा (Yoga)

योगा शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने में काफी मददगार है! योगा हमारे शरीर में टॉक्सिक पदार्थो को कम करती है और साथ ही हमारे स्ट्रेस को कम करने में मदद करती है!

योगा से शरीर का मेटाबोलिज्म भी अच्छा होता है जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाने में मददगार होता है!

निम्न योगा आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने में आपकी सहायता कर सकते हैं!

1) कपालभाति

2) अनुलोम विलोम

3) भ्रामरी

4) उद्गीथ प्राणायाम

इनके अलावा भी योगा में कई आसन बताएं गए है जिनकी सहायता से आप अपने शरीर को मजबूत और तंदरुस्त बना सकते हैं!

6) धूम्रपान न करें

“धूम्रपान स्वास्थय के लिए हानिकारक है” यह चेतावनी आपको धूम्रपान से जुड़े उत्पाद के पैकेट्स के ऊपर लिखी हुई जरूर मिलेगी!

धूम्रपान करने जैसे की सिगरेट पीने से इसमें मौजूद तम्बाकू हमारे फेफड़ो में जा कर उनको हानि पहुँचता है! जिसके कारण सांस से जुडी कई प्रकार की बीमारियाँ हो सकती है !

धूम्रपान करने से निम्नलिखित समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है!

  • हार्ट अटैक होने का खतरा बढ़ जाता है!
  • स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है!
  • फेफड़ो में इन्फेक्शन जैसे की न्युमोनिआ जैसी बीमारियाँ होने की आशंका बढ़ जाती है!
  • type 2 diabetes

इन सबके अलावा भी कई प्रकार से धूम्रपान आपके शरीर को नुक्सान पहुँचता है! धूम्रपान से कैंसर जैसी घातक बीमारियाँ भी हो सकती हैं!

7) वजन को नियंत्रित करें

जिन लोगो का वजन उनकी उम्र और उनकी शरीर की लम्बाई (Height) के हिसाब से अधिक होता हैं उन लोगो में निम्नलिखित स्वास्थय समस्याओं के होने का खतरा स्वस्थ मनुष्य की तुलना में बढ़ जाता है!

  • उच्च रक्त चाप (High Blood Pressure)
  • stroke
  • Gallbladder से जुडी बीमारियाँ
  • शरीर में दर्द रहना और शारीरिक परिश्रम करने में तकलीफ होना!
  • साँस लेने में तकलीफ

जानिये कितना होना चाहिए आपका वजन

BMI (Body Mass Index) का प्रयोग यह मापने में किया जाता है की आपके शरीर का वजन आपकी उम्र और आपकी हाइट के हिसाब से सही है या नहीं!

BMI CountStatus
15 से कमVery Severely underweight
15-16Severely underweight
16-18.5Underweight
18.5-25Normal Weight
25-30overweight
30-35Moderately obese
35-40Severely obese
40 से अधिकVery Severely obese

8) खाना खाने से पहले हाथो को अच्छी तरह से धोएं

हमारे हाथो पर कई प्रकार के बैक्टीरिया, वायरस आदि होते हैं और जब हम बिना हाथ धोये हुए खाना खाते हैं तो ये जर्म्स (Germs) हमारे शरीर में प्रवेश कर जाते हैं जिसके कारण कई प्रकार की बीमारियाँ हो जाती हैं!

आज के कोरोना (Covid-19) काल में डॉक्टर्स (Doctors) ये सलाह देते हैं की हमें समय-समय पर अपने हाथो को साबुन (Soap) से अच्छे तरह से कम से कम 20 सेकंड तक धोना चाहिए! इससे हम कई प्रकार की बिमारियों से बच सकते हैं!

9) फल सब्जियों को खाने से पहले अच्छी तरह से धोएं

Read also:- भारत के प्रमुख फूल फल और सब्जियाँ

एक समय ऐसा था जब हम फलो और सब्जियों को तोड़ने के तुरंत बाद बिना धोये हुए खा लेते थे पर अब ऐसा करना सेहत के हिसाब से सही नहीं माना जाता!

पहले फलो और सब्जियों में सिर्फ गोबर से बानी हुई खाद डाली जाती थी परन्तु अब सब्जियों में कई तरह की कीटनाशक दवाइयों का प्रयोग किया जाने लगा है!

अगर आप सब्जियों को बिना धोएं खाते है तो ये कीटनाशक दवाई आपके शरीर में जा कर कैंसर जैसी घातक बीमारियाँ पैदा कर सकती है!

कैसे करें फलों और सब्जियों को साफ़

1) सिरके (Vinegar) की सहायता से

एक बड़े कटोरे में 3 से 4 गिलास पानी भर लें और फिर उसमे एक कप सिरका डाल कर सब्जियों और फलों को इसमें अच्छी तरह से धो लें! अब आप इन फलों और सब्जियों का इस्तेमाल कर सकते हैं!

2) बेकिंग सोडा की सहायता से

बेकिंग सोडा घरो की साफ़ सफाई में इस्तमाल किया जाने वाला बहुत ही आम क्लीनर है!

4 से 5 गिलास पानी में 3 चम्मच बेकिंग सोडा मिला कर उसे एक बड़े कटोरे में डाल लें और फिर फलों और सब्जियों को इस कटोरे में डाल कर अच्छी तरह से साफ़ किया जा सकता है!

आप अपनी रसोई और फ्रिज को भी बेकिंग सोडा और पानी के मिश्रण से किसी कपडे की साहयता से साफ़ कर सकते हैं!

3) हल्दी और पानी की सहायता से

पहले किसी बड़े बर्तन में पानी को उबाल लें फिर उसमे आवश्यकता अनुसार हल्दी मिला लें और फिर फलों और सब्जियों को इस घोल में डूबा दें! थोड़ी देर बाद इन्हे साफ़ पानी से साफ़ कर लें!

हल्दी में एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं! ये बैक्टीरिया को मारने में सक्षम है!

10) संतुलित और पौष्टिक भोजन खाएं

एक स्वस्थ जीवन की लिए स्वस्थ भोजन की थाली होना बहुत ही आवश्यक है!

आपके द्वारा ग्रहण किया जाने वाला अन्न सीधा आपकी सेहत पर असर करता है! उदाहरण के लिए यदि आप ज्यादा मसालेदार भोजन कर लेते है तो आपके शरीर में एसिडिटी जैसी बीमारी हो जाती है! इसलिए स्वस्थ जीवन के लिए संतुलित भोजन अति आवश्यक है !

संतुलित भोजन का अर्थ होता है ऐसा भोजन जिससे आपके शरीर को सारे पोषक तत्व मिल जाएँ! ऐसा भोजन जिसमे प्रयाप्त मात्रा में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन्स तथा अन्य पोषक तत्व मौजूद हो!

महिला और पुरुष के लिए भोजन में कैलोरी की मात्रा अलग अलग होती है! इसके अलावा भी भोजन में कैलोरी की मात्रा एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के लिए अलग अलग हो सकती है! जैसे की एक खिलाडी के लिए ये मात्रा ज्यादा हो सकती है जबकि एक ऑफिस में पुरे दिन भर कुर्सी पर बैठ के काम करने वाले के लिए ये मात्रा कम हो सकती है!

एक सामान्य महिला और पुरुष के लिए प्रतिदिन का कैलोरी इन्टेक निम्न हो सकता है! हालांकि यह आवश्यकता व्यक्ति के कार्य, लिंग, उम्र के अनुसार अलग अलग हो सकती है!

पुरुषमहिला
कैलोरी25002000
Fat (g)9570
saturate (g)3020
कार्बोहाइड्रेट (g)300260
प्रोटीन (g)5550
शुगर (g)12090

Read also:- मुहांसो से छुटकारा पाने के 5 easy ways

These 10 natural ways to Increase Immunity Power will surely help you to fight against any health problem and will make your body strong against all bacteria and virus.

4 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *